भारतीय टी 20 टीम में मेंटर के रूप में एमएस धोनी की नियुक्ति के खिलाफ क्यों हुई शिकायत दर्ज

 | 
भारतीय क्रिकेट की टी 20 विश्व कप टीम के नए संरक्षक के रूप में एम एस धोनी की नियुक्ति, क्रिकेट के क्षेत्र में बहस का विषय बना हुआ है  कि क्या यह नियुक्ति सही है या फिर गलत। इस फैसले को मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ के पूर्व सदस्य संजीव गुप्ता ने चुनौती दी है। संजीव गुप्ता ने अपैक्स कॉउन्सिल के मेंबर सौरव गाँगुली और जय शाह को खत लिखकर बी सी सी आई के   संविधान के  क्लोउस 38(4) को आधार बनाकर यह आरोप लगाया है कि कोई भी व्यक्ति क्रिकेट में एक साथ दो पदों पर नियुक्त नहीं हो सकता। क्योंकि धोनी वर्तमान में सीएसके के कप्तान हैं और अब उन्हें इस पद पर भी नियुक्त किया गया है। हालाँकि धोनी ने 15 अगस्त 2020 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर दी थी।
धोनी की नियुक्ति की खबर सुनते ही गावस्कर ने एक मेंटर के रूप में नियुक्त एमएस धोनी और रवि शास्त्री के बीच उनके काम करने के तरीके और विचार प्रक्रिया में अलग दृष्टिकोण के कारण मतभेद होने की संभावना जताई थी। धोनी के टी 20 टीम केे सरंक्षक के  रूप में नियुक्ति होने पर एक तरफ धोनी के समर्थकों में उत्साह का माहौल है वहीं दूसरी ओर  इस धोनीतरह की खबर का सामने आना चिंता का विषय है।